दीपावली हमारे देश में मनाए जाने वाले त्योहारों में सबसे बड़ा त्योहार है। कार्तिक का महीना लगते ही लोग दीपावली की तैयारी करने लगते हैं। दीपावली पर घर की साफ-सफाई और सजावट का विशेष ध्यान रखा जाता है। मान्यता है कि मां लक्ष्मी का आगमन उसी घर में होता है, जो साफ और स्वच्छ होता है। लेकिन दीपावली की तैयारी करते समय हमें वास्तु की कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। वरना अक्सर हम कुछ ऐसी गलतियां कर देते हैं जो हमारे लिए नुकसान का कारण बन जाती हैं। आइए जानते हैं इस दीपावली की तैयारी करते समय हमें वास्तुशास्त्र की किन बातों का ध्यान रखना चाहिए...

1-वास्तु शास्त्र में गंदगी, कूडे- कबाड़ को नकारात्मक ऊर्जा का स्त्रोत माना जाता है। इसलिए हमें दीपावली पर सफाई करते समय गंदगी और कूडे को घर से दूर फेंके।

2- रद्दी, कबाड़ को घर में ढेर लगा कर कभी नहीं रखना चाहिए। जितना जल्दी हो सके रद्दी को घर से हटा देना चाहिए।

3- खराब और बंद पड़ी हुई मशीनों, क्राकरी को घर में नहीं रखना चाहिए, ये आपकी बनते हुए काम बिगाड़ देते हैं।

4- घर के दरवाजों के कब्जों में तेल जरूर डालना चाहिए, ताकि दरवाजों को खोलने बंद करने पर कोई आवाज आए। माना जाता है जिन दरवाजों के खोलने से आवज आती है मां लक्ष्मी उन घरों में प्रवेश नहीं करती हैं।

5- दीपावली के दिन घर के मुख्य दरवाजे पर स्वास्तिक और लक्ष्मी चरण बनाने चाहिए। लेकिन ध्यान रखें की लक्ष्मी चरण घर में आने की दिशा में जाने की नहीं।

6- दीपावली की सफाई और सजावट में घर की उत्तर और उत्तर पूर्व की दिशा को विशेष तोर पर ध्यान देना चाहिए। इस दिशा की दीवारों को रंग बिरंगी रोशना से सजाना चाहिए। ऐसा करने से घर का वास्तुदोष दूर होगा।

7- अगर आपके घर का मेन गेट दक्षिण की दिशा में है तो वहां पर पिरामिड या लक्ष्मी गणेश की तस्वीर लगा दें। वास्तु दोष दूर होता है और सौभाग्य में वृद्धि।